उत्तर प्रदेश किशोरी बालिका योजना – UP Kishori Balika Yojana

उत्तर प्रदेश किशोरी बालिका योजना UP Kishori Balika Yojana Uttar Pradesh Kishori Scheme for Girls Kishori Balika Yojana – मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने 21 फरवरी 2019 को उत्तर प्रदेश में किशोर लड़कियों के लिए SAG योजना शुरू की है। इस SAG योजना का मुख्य उद्देश्य 11 से 14 वर्ष की आयु के बीच की लड़कियों की शिक्षा का ध्यान रखना है। यूपी राज्य सरकार उन लड़कियों के लिए उचित पोषण और विशेष सहायता सुनिश्चित करने जा रही है जिन्होंने अपनी पढ़ाई छोड़ दी है।

Kishori Balika Yojana

यूपी केमुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने भी राज्य भर के आंगनवाड़ी केंद्रों में प्रत्येकमाह की 8 तारीख को बालिका दिवस के रूप में मनाने का निर्णय लिया है।

इसके अलावा, राज्य सरकार उत्तर प्रदेश भी 8 मार्च 2019 को किशोर लड़कियों के लिए एक पोषण अभियान आयोजित करने की योजना बना रही है।

पीएम किसान पोर्टल लॉन्च, यहाँ चेक करें आपका नाम है या नहीं http://pmkisan.nic.in/

उत्तर प्रदेश मेंकिशोर लड़कियों के लिए SAG योजना

उत्तर प्रदेशसरकार ने किशोर लड़कियों की शिक्षा का ख्याल रखने के लिए SAG योजनाशुरू की है, जिन्होंने स्नातक की पढ़ाई पूरी होने तक 11 से 14 सालकी उम्र में पढ़ाई छोड़ दी है। यूपी में इस SAGयोजना का व्यापकउद्देश्य पोषण, स्वास्थ्य और विकास की स्थिति में सुधार करना, स्वास्थ्य, स्वच्छता, पोषणऔर परिवार की देखभाल के बारे में जागरूकता को बढ़ावा देना है। इसके अलावा, SAG योजनाकिशोर लड़कियों को जीवन कौशल सीखने,स्कूलों में वापस जाने, सामाजिकपरिवेश की बेहतर समझ हासिल करने में मदद करने और समाज के उत्पादक सदस्य बनने केलिए पहल करने के अवसर भी प्रदान करेगी।

SAG किशोर लड़कियों की पोषण योजना और गैर-पोषणघटक योजना के तहत 2 प्रमुख घटक हैं। SAGयोजना के 2 घटकों कावर्णन इस प्रकार है।

  • पोषणघटक – 11 से 14 वर्ष की सभी स्कूली लड़कियाँ होम राशन या हॉट कुक्ड मील ले सकतीहैं। एक पोषण प्रावधान 9.50 रूपये प्रति दिन के हिसाब से जिसमें 18 से 20 प्रतिग्राम प्रोटीन के साथ 600 कैलोरी शामिल हैं और प्रति दिन सूक्ष्म पोषक तत्वों केदैनिक सेवन के लिए बताया गया है।
  • गैर-पोषणघटक – सभी स्कूली लड़कियों के लिए IASअनुपूरण, स्वास्थ्यजांच, और रेफरल सेवाएं,पोषण और स्वास्थ्यशिक्षा (NHE), परिवार कल्याण, परामर्श, बालदेखभाल प्रथाओं पर परामर्श / मार्गदर्शन,जीवन कौशल शिक्षा का लाभउठा सकते हैं और सप्ताह में 2-3 बार सार्वजनिक सेवाओं का लाभ प्रदान करना है।
उत्तर प्रदेश SAG योजना2019 कवरेज

उत्तर प्रदेश मेंकिशोर लड़कियों के लिए SAG योजना में 11 से 14 वर्ष की आयु की सभीस्कूली किशोर लड़कियों को शामिल किया गया है। SAGयोजना को केंद्र सरकारद्वारा अनुमोदित किया गया था। योजना को वित्त वर्ष 2010 में और पहले से ही देशभरके 205 जिलों में लागू किया जा चूका है। बाद में,सरकार ने 2017-18 में अतिरिक्त303 जिलों में चरणबद्ध तरीके से SAG योजना का विस्तार और सार्वभौमिककरण कियाहै।

शेष जिले वित्तीयवर्ष 2018-19 में किशोरी शक्ति योजना से एक साथ चरणबद्ध किए गए थे। वर्तमान में, भारतमें लगभग 508 जिले किशोर SAG योजना के तहत आते हैं। शेष जिलों केचिन्हित क्षेत्रों में, केएसवाई लागू किया गया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *