तमिलनाडु सरकार का पोंगल उपहार – 1000 रूपये के गिफ्ट हैम्पर के साथ

Tamilnadu Pongal Gift राशन कार्ड धारकों के लिए तमिलनाडु सरकार का पोंगल उपहार,राशन कार्ड धारकों के लिए 1000 रूपये नकद राशि तमिलनाडु की राज्य सरकार द्वारा दी जाएगी

Tamilnadu Pongal Gift

तमिलनाडु सरकार पोंगल उपहार

तमिलनाडु सरकार पोंगल के शुभ अवसर पर राज्य के राशन कार्ड धारकों के लिए अच्छी खबर लेकर आई है। राज्य सरकार ने राज्य के लोगों के लिए पोंगाल उपहार देने की घोषणा की है। राज्य सरकार इस पोंगल पर राज्य के सभी राशन कार्ड धारकों को 1000 रुपये नकद उपहार में देगी।

[लिस्ट] नरेगा जॉब कार्ड लिस्ट 2019 जिलावार | पंजीकरण | कार्ड डाउनलोड

तमिलनाडु सरकार के पोंगल उपहार का विवरण – Tamilnadu Pongal Gift

राज्य के राज्यपाल बनवारीलाल पुरोहित ने यह जानकारी दी। राज्य की विधानसभा को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा, “मुझे यह घोषणा करते हुए खुशी हो रही है कि इस सरकार ने पोंगल त्योहार मनाने के लिए 1,000 रुपये नकद के साथ सभी राशन कार्ड धारकों की मदद करने का फैसला किया है।

तमिलनाडु सरकार पोंगल उपहार – उपहार विवरण – Tamilnadu Pongal Gift

यह योजना थिरुवरूर जिले को छोड़कर पूरे राज्य में लागू होगी क्योंकि थिरुवरूर विधानसभा क्षेत्र में पुन: चुनाव के कारण आचार संहिता लागू है। पोंगल गिफ्ट हैम्पर में कच्चे चावल, चीनी, किशमिश, काजू, इलायची और गन्ना शामिल होंगे, जो गाजा चक्रवात में कावेरी डेल्टा के उत्तरी जिले में सूखे के प्रभाव को कम करने के लिए सभी राशनकार्ड धारकों को दिया जाएगा।

राज्यपाल पुरोहित द्वारा दी गई अन्य महत्वपूर्ण जानकारी – Tamilnadu Pongal Gift

राज्यपाल पुरोहित ने कहा कि राज्य सरकार जर्मन द्विपक्षीय फंडिंग एजेंसी KFW के समर्थन से परिवहन निगमों के लिए एक व्यापक पुनर्गठन कार्यक्रम शुरू कर रही है। राज्यपाल ने कहा कि राज्य सरकार जर्मन एजेंसी  KFW की मदद से अपने परिवहन निगमों का भी पुनर्गठन करेगी और झुग्गीवासियों के लिए एक आवास परियोजना तैयार करेगी।

उन्होंने कहा कि औद्योगिक नीति को अंतरिक्ष और रक्षा क्षेत्र में शीघ्र ही जारी किया जाएगा ताकि इन दोनों क्षेत्रों में स्वदेशी घटकों को बढ़ावा दिया जा सके। उनके अनुसार, राज्य सरकार ने विश्व बैंक की सहायता से एक व्यापक आवासीय परियोजना तमिलनाडु हाउसिंग एंड हैबिटेट डेवलपमेंट प्रोजेक्ट ’तैयार किया है, जिसका उद्देश्य चेन्नई, तिरुवल्लुवर और कांचीपुरम जिलों की मलिन बस्तियों को बदलना है।

You may also read
Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *